छोटी सी आशा hope opportunities?

What comes to mind on looking at this photo.

This is common sight in many villages in my area. I don’t know about cities.

First thought is about role of women in our soceity. Are women or girls meant for such household activities only that too enclosed within four walls?Often we heard the word stereotype? Are role of women is being stereotyped?When i went to my maternal ancestral village I whitney stimulus witness similar seen seen similar seen daughters of one of my relative don’t go to school. I tried to inquire. But didn’t get any convincing answer. Girls told parents dont allow. But if boys can go to college, then why girls can’t. From outside it looks easy to comment on this situation. Such situations varry from village to villages or type of social culture.I relate once incident of my life. My sister has to go some college in city, she was earlier studying in Kendriya Vidyalaya IITKANPUR. It was late in afternoon she didn’t returned home yet. I began to have high pace of heart beats. When i couldn’t control or bear it further I rushed to get any vehicle at iit gate to go to city. It was almost 14 km. When i was standing at bada chaoraha our iit bus was coming from phoolbagh side. There i saw my sister sitting in bus. Immediately tears started rolling down from each of us i think. When i boarded bus there was nothing to convey verbally. Only tears conveyed. She was asking so many questions. I was too but my sight was little solace for her in comparison to tension she might have undergone mentally. Eve teasing is common phenomena. Even within school or within class students face it. But going school 15 km away from home, sometimes becomes troublesome. This incident was my personal in 1983 or 84 while i was residing in a city like Kanpur.In that village i was talking about was far from main road that connected Hardoi City to sandi. From that road we had to walk through agricultural fields i don’t know how many km. But must be 5 km. One of my mausi residing in that village was teacher in a primary school. She used to walk daily to go to school in that village on road where we used to drop from bus at mainroad. Her brothers too were teachers but in city. I don’t know if there was any middle school nearby. I didn’t hear. But now time changed. There must be high school. But girls had to go higher education. After plus two. Since transpost facility is not proper or upto requirement of the village thus girls are forced to not to attend. Often social norms do force for early marriage of girls as soon they attain age of 17 or 18. Thus thought goes if girls go to school college and something happens how they will be married.Now here comes attitude of males in soceity. Male dominated society? Even women of houses too look for well mannered girls as bride for their boys. Some sort of incident happens in college with girls first thing spreads is the character assassination of that girl. In such cases soceity have double standards. Soceity at large ignore any characterless acts of boys. Boys or men can rape or pass comments or do eve teasing. But when girls reply or does teasing of boys they are labeled as characterless. I remember one incident at Kanpur. Three sister hanged themselves. One TV reporte asked few neighbours about girls. One boy said they were well behaved girls. They always walked with their eyes downward. वे हमेशा आँखें नीची रख कर ही चलती थी। मतलब लडकियों को आंखे निची रखना चाहिए? अगर गली मोहल्ले मे लडकियां आँख उठा कर चलती हैं तो ही वे सभ्य हैं सुशील हैं और लड़के छेड़ छाड़ करते ही रहेंगे।Now this kind of standards are set for behaviour of girls.Many girls living in villages or semi urban area do not have ample opportunities So that they can utilize their talents either in education or in sports. I may be wrong but i will be happy to know that i am wrong. Distance of educational institutions from residence, eve teasing by men, poverty, social pressure, pressure on parents of getting their daughters married are few reasons that girls are not able to come out openly. Often gender bias on issue such as daughters ought to learn basic household works -cooking food, cleaning home, caretaking og domestic animals, often collecting wood for fuel, helping men in tending agricultural fields are all deputed to girls-women. Saying no to sex with husbands is out of their dreams. Taking care of small kids is unwritten law of homes. Pregnancy is another task handled singlehandedly by women. Sometimes talking on contraceptive is a taboo. Even if they wish to take up this issue with their husbands is a taboo. Otherwise they will be labeled or questioned about character? Or virginity? That is another big issue.I have not seen shops in villages(atleast in my area) where women can go buy contraceptives. 30 years back there was one shop in that village now in 2019 i saw few more. But women buying contraceptives is a distant dream. Even many times i too feel embraced to go shop for buying condom. Now a days medicine shops have started employing girls in their shops. I feel ashamed to go to those shops to buy condoms.Such situations force me to think about real problems faced by our women folks in villages.Situation in slums in metro cities is not better too. Poverty is foremost problem for any social reforms.Pad man was a film. But real problem still looms large. But still i can’t say situation is bad in every area. Sanitory napkins are being made available througj schools? If so then good. But as i was telling earlier girls dont attend schools or those who are school dropouts how come they have access to these napkins. Anganwadi Balwadi or gram sevika or ASHAA ANMs etc can play large role. But that requires huge pressure on govt to strengthen infrastructure. Problem is of dedication. There is need of govt worker who can do their jobs with dedication and in full earnest.My DREAM is to have Aganwadi PHC in every village, each and every hamlet must be covered by health educatuon and social welfare schemes.

Advertisements

रमेश हलवाई Ramesh Halwai?

रमेश हलवाई
रेलवे गंज हरदोई के उस मोहल्ले में मेरी नानी का मकान था। वहां पर एक किरायेदार रहते थे उनका नाम था रमेश। जब हम छोटे थे 1971 में मांटेसरी स्कूल में पढ़ते थे कक्षा चार में। तब अक्सर रेलवे स्टेशन की तरफ चले जाते थे। उस को बोलते थे रेलवे फाटक वाली रोड। रेलवेस्टेशन तो दूसरी रोड पर पड़ता था। इस रोड को मोहलिया जाने वाली रोड कहते थे। फाटक के पास कुछ दुकाने थीं उनमें से एक दुकान रमेश की थी। अक्सर जब जाते थे तब उसमें कुछ मिठाई पेड़ा समोसा आदि मिलते थे।

कई वर्ष उपरांत जब हम लोग कानपुर रहने लगे तब कभी-कभार छुट्टियों में ही जाने का अवसर मिलता था। जब फाटक वाली रोड पर पहुंचे तो देखा रमेश की दुकान थोड़ी उजड़ी उजड़ी दिख रही थी। ना तो उसमें रौनक थी न मिठाइयां दिख रही थी। कुछ एक टूटी-फूटी अलमारी जिसमें कांच लगे हुए थे पुरानी अलमारी थी। एक कोने में उनका लड़का बैठा था। क्योंकि लड़का बड़ा हो रहा था 10 या 11 साल का हो गया था लिहाजा उसे भी पिता का हाथ बटाना था। थोड़ी समोसे आदि पकौड़ी जैसी कोई चीज बिक रही थी।

साल भर बाद गए तो पता चला घर में ही आंगन में उनकी पत्नी और लड़कियां समोसा आदि बना रहे थे। आश्चर्य हुआ कि कुछ समय में इनका रहने का स्तर कैसे इतना गिर गया? छोटे पर तो होश नहीं था पर इतना पता चला था कि रमेश दुलहिन एक किसी बड़े प्रतिष्ठित हलवाई की पुत्री थीं। उन हलवाई की दो या तीन ही लड़कियां ही थी कोई पुत्र नहीं था। हरदोई शहर में और लड़कियां रहती थी आपस में उनका बनता नहीं था। पिता का जो धन जायदाद थी इन तीन चार बहनों में ही बट चुकी थी। पहले तो इनका घर ठीक ठाक दिखता था। हम इनके घर में जाते थे। बड़ी लड़की का नाम था अबलेश कमलेश हमारा नाम था। छोटी बहन का नाम मिथिलेश था। लड़के का लड़के का नाम मुझे याद नहीं है। एक और छोटी सी लड़की थी। याह तो मुझे पता दो या तीन बच्चों का जन्म तो हमारे सामने ही उसी घर में हुआ था। उस समय पता नहीं क्यों अस्पताल नहीं जाते थे बच्चे के जन्म के लिए। जचकी घर में ही हो जाती थी कई बार दाई आ जाती क ई बार नहीं। नानी के मोहल्ला में मैंने कम से कम लगभग हर घर में जन्म घर में ही होते देखा है। परंतु हमारी बहन का जन्म हरदोई अस्पताल में हुआ था। अब इसको अज्ञानता अनभिज्ञता कहें या फिर अभाव? संसाधनों का अभाव जिसकी वजह से लोग हस्पताल अस्पताल नहीं जा पाते हैं बच्चे का जन्म कराने के लिए। हो सकता है की गरीबी या संसाधन की कमी! आर्थिक रुप से कमजोरी ही एक बड़ा कारण हो जिससे कि लोग जन्म के लिए मां को अस्पताल नहीं ले जा पाते?

बात हम बता रहे थे कि कैसे उस घर का आर्थिक संतुलन बिगड़ गया। एक दो बार मैंने उनको बोला था कि आप अपना खाता खोल लीजिए पासबुक अपने पास रखिए। बैंक में जाइए और चुपचाप पैसे डाल लिया करिए हर महीना किसी को पता ही नहीं चलेगा। तो वह हंसती थी मेरे ऊपर। तो मुझे पता नहीं था उसके पीछे क्या कारण था। चूंकि मैं नानी के साथ हिन्दुस्तान कामर्शियल बैंक जाता था पासबुक भी देखी थी इसलिए मैंने उनसे भी यही करने को कहा था।
कुछ वर्षों के अंतराल में मैंने देखा वह कई बार ऊपर आती थी नानी से कुछ पैसे उधार मांगती थीं चुपचाप जिससे किसी को पता न चले। कभी दो रुपया या पांच रुपया। आज रुपया भी कोई रुपए होते उधार मांगने के लिए। पर उस समय में उनके कमरे का किराया लगभग ₹15 या २५ ₹ था।
फिर अगली साल हम गए तो पता चला बड़ी बेटी को टीबी हो गई। मुझे तो विश्वास न हुआ। कैसे हो गई इसका कुछ पता नहीं चला। कि डॉक्टर को दिखाया या नहीं यह भी नहीं पता चला। जिस घर में बच्चे के जन्म के समय मां को अस्पताल ना ले जा सके उस घर में हम क्या आशा कर सकते कि वो बच्चों को डॉक्टर को दिखाएगा? कैसे दिखाएगा? और वह भी चार बच्चे?
फिर अगले वर्ष पता चला अबलेश की मृत्यु हो गई। अब मिथलेश बड़ी हो गई। उसकी छोटी बहन भी काम काज करने लगी। लड़का बिगड़ गया घर से भागा रहता था। और यह सब हुआ दो तीन साल में। मैंने सुना रमेश बहुत शराब के आदी हो गए थे और शायद जुंआं भी खेलते थे। रात बिरात आने जाने का कोई समय नहीं था उनका। करते-करते घर की हालत खराब हो गई। घर के आंगन में ही रमेशदुलहिन चूल्हा जलाकर जो सामान आ जाता उससे इमली की चटनी टमाटर की चटनी समोसा कचोरी कुछ इस प्रकार की चीजें बना देती फिर वे सब चीजें दुकान जाती। दुकान से जो बीक कर आता होगा या नहीं आता होगा उसमें पूरा घर गुजारा करता। एक मां तीन बच्चे शराबी पति पता नहीं कैसे गुजारा करते थे। एक साल जब गया तो देखा कि उनके चश्मा लग गया था अब उसमें से भी उनको दिखता था कि नहीं दिखता था। हर साल जाने से ऐसा लगता जैसे वह चश्मे को हिला हिला के प्रयास करती देखती आगे बढ़ती और घर का सारा काम करती। कौन जानता है कि उस चश्मे से उनको दिखाई देता था या नहीं? आंख दिखाने के लिए चश्मा बनवाने के लिए वे कहां जाती? और फिर वे अपनी पीड़ा किसको बतातीं? उस समय कोई घर-घर जाकर लोगों को अस्पताल वाले तो नहीं देखते थे? हम तो छोटे थे क्या बहाना बनाएं? ऊपर से देखते मन मसोस कर रह जाता। खाने-पीने की चीजों से ही मदद कर पाता था।
दीपावली आई। मैंने देखा आंगन में ही रमेश ने शक्कर की बतासे बनाने शुरू करे। शक्कर के खिलौने बनाए। वहां पर ही मैंने देखा कि कैसे छोटे और बड़े कई तरीके की शक्कर के बतासे बनाए जाते हैं कैसे शक्कर के खिलौने बनाए जाते हैं।
हो सकता है कि वो एक मंझे हुए हलवाई रहे होंगे उनको हलवाई की क्राफ्ट आती थी हलवाई गुण आता था इसलिए उनके पास हुनर कला तो थी परंतु पता नहीं क्यों उनको सफलता वह नहीं मिल पा रही थी? बिजनेस फेल होगया था। मार्किट ने अपने को जमा नहीं पा रहे थे। नानी क्योंकि मकान मालिक थीं इसलिए कई बार गुस्सा भी हुई थी कि आंगन में लाकर के सामान और भट्टी और तरह-तरह जो उपकरण इस्तेमाल करते हैं जिससे कि मकान को भी छति पहुंचती है और अगल बगल के रिश्तेदार भी शिकायत दर्ज करवाते हैं कि उनको असुविधा होती है। गरीब परिवार था इसलिए शायद नानीजी चुप रह जाती थी। सुन लेती थी। परंतु बहुत ही कठिन जीवन था उन लोगों का।
हम तो उनको मामी कहते थे। जब भी ऊपर मिलने आती थी नानी से उनके चेहरे पर एक सीमित मुस्कान ही रहती थी। जो कि एक आवरण ही होती थी। मुझे पता थी यह बात। हम तो एक महीना या 20 दिन के लिए ही छुट्टियों में जाते थे परंतु देख तो लेते थे उनकी हालत।
धीरे-धीरे उनके सारे अच्छे वस्त्र छूट गए साज सिंगार सब छूट गया हाथ के कंगन बिछिया मांग बेंदा गले का हार कान की बालियां कुंडल जो भी स्त्रीयोचित श्रृंगार की चीजें थी वो सबसे दूर हो गई थीं। यहां तक कि लगता वह स्नान भी नहीं करती थी रोज। नहीं कर पाती थी साबुन कहां से आएगा? रोज शरीर को और कपड़े धोने के लिए? बरतन कढ़ाई वगैरह धोना तो मजबूरी थी क्योंकि दूसरे दिन उसमे उनको फिर बनाना था।
हम देखते थे कि उस घर में खाना नहीं था पेट भर कर। पर बच्चियां और मां समोसा चटनी और तरह-तरह के चीजें बनाती थी पर मजाल कि उनमें से चख भी लें। हलवाई की पुत्री थीं और शायद जानती थीं बिजनेस के उसूलों को? झूठा नहीं करना चाहिए? या फिर पुरुष का भर।
पर मैंने जहां तक देखा है कि बच्चे और मां अक्सर भूखे ही‌ रह जाते थे। हम लोग जब बारहवी में आ गए उसके बाद पढाई में इतने व्यस्त हो गए कि कई वर्षों तक हरदोई जाना नहीं हुआ। कई वर्षों के बाद देखा पूरा घर सूनसान हो गया था जसे उसमें कोई रहता ही नहीं था। पता चला सब लोग चले गए। किसी की मौत हो गई। किसी का क्या हुआ कोई बताने वाला भी नहीं था। लड़का कभी कभार आता था एक दो बार पर रमेश का कुछ पता नहीं चला।
दुख लगता है कि एक कैसे एक कर्मठ परिवार पूरा खत्म हो गया। शायद आर्थिक कमजोरी के कारण या फिर हमारे सरकारी सामाजिक सुविधाओं को जरुरतमंद तक ना पहुंच पाने के कारण। जन सुविधाओं को जनता तक या गरीब तक ना पहुंच पाना?
या फिर समाज के रूप में विफल होना?
बीमारी और दवाई में लोग ज्यादा मदद नहीं कर पाते हैं। खाना तो आस पड़ोस से मिल जाता है परंतु बार-बार अस्पताल जाना, डॉक्टरों की फीस, दवाइयों का खर्च, आदि थोड़ा कठिन हो जाता है दूसरों के लिए।
जहां तक मैंने देखा है क्योंकि लोग आस पड़ोस के खुद भी गरीब होते हैं तो जितना हो सकता है उतना अपने हिसाब से लोग एक दूसरे की मदद करते हैं।
पर सवाल उठता है उनके पास राशन कार्ड तो होगा? क्या गरीबी की रेखा के नीचे वाला राशन कार्ड नहीं था? या उस समय यह योजना नहीं थी? यह तो सब हम अनुमान लगा रहे हैं पर वास्तविकता क्या है? बात बहुत पुरानी हो चुकी है 1982 के बाद से तो मैंने देखा ही नहीं है किसी को ना अपने नानी का घर गया। कैसा है वह?

#Health Care System vis a vis #Urban #Rural and #Medicine systems #HealthCareSystem

A question always arises in mind whether public health system is better or private? I think such question if arises then it is in itself a proof that how much faith we have in public health system? But more often than not we have no other option but to go to public health system.
This debate is going on for very long. I suppose that this will continue for a long period of time. Question always arises whether government provide better health care facilities or private hospitals. All India estimates (in 2014) of rural areas indicated that private hospitals were preferred. Why? Since more number of cases were hospitalized in private hospitals that in public hospitals. Cases 581 per thousands were hospitalised in private hospital whereas 419 in public hospital. Similarly in urban areas 680 per thousand cases hospitalized in private hospitals and only 320 in public or government hospital.
The difference between type of hospitals in rural areas was about hundred or 200 cases. However in urban areas the difference was almost double that means urban private hospitals were most preferred. I don’t know how to infer that a public has more faith in private hospitals in urban areas?
Difference of double that of public hospital is a striking thereby indicating that there is a huge gap in coverage by public health system?? How to expand coverage by public health system is major challenge. Now at this stage we have to talk about coverage leaving aside the quality of health coverage.
More male patients than female are hospitalized in Private hospital compared to public hospitals? Is there any gender issue involved in this?
Or families prefer private hospitals for male patients in rural areas? The difference is not large though even though little bit difference is there. About 278 female and 303 male per thousands patients were taken into private hospital.
In A & N Islands, about 941 per thousand patients hospitalised in public hospitals in rural areas and only 59 per thousand patients in private hospitals. [50 male and 9 female]
No simple inference can be drawn, as in rural areas might not be having any option as not much private hospitals were available. States like Arunachal Pradesh, Assam, J&K, Manipur, Meghalaya, Mizoram, Nagaland, Odisha, Sikkim, Tripura and even in Delhi less number of patients were hospitalised in Private hospitals
Andhra Pradesh, Gujarat, Haryana, JharkhandKarnataka, Kerala, Maharastra, Punjab, Telangana, UP, Pudducherry more patients were hospitalised in Private Hospitals.
AP, Gujarat, Jharkhand, Karnataka, Kerala, Maharastra, Punjab, Telangana, UP, Pudducherry, almost more than double patients hospitalised in private hospitals than that of in Public Hospitals. In Urban areas, AP, Bihar, Chattisgarh, Gujarat, Haryana, Jharkhand, Karnataka, Kerala, Maharastra, Nagaland, Tamil Nadu, Telangana, UP, Uttarakhand large number of patients were hospitalised in private hospitals. In few states the number was three times higher than that of public hospitals.
Allopathy is still the most preferred choice of treatment. In urban areas 94.4% Male and 91% female received treatment in Allopathy medicine. All other Indian system of medicine i.e Homeopathy, Yoga, Naturopathy got only less than 7% of total patient share. All these system collectively named as AYUSH.
If data is to be believed then Nagaland shows 82% male received treatment in other system of medicine? While female received 100% Allopathy? Is it a mistake of data entry?
Over all more number of patients got treatment in other form of medicine was observed in Tripura(18), kerala(15.3), Punjab(14.8), Lakshdweep(11.5). Chattisgarh(11.2), Rajasthan(10.3), Himachal Pradesh and A & N Islands (10.1).
However, if any recent study is done few places will top the chart for usinf AYUSH including A & N Islands. I saw long queues standing in AYUSH hospital waiting for their turn to meet Ayurvedic or Homeopathic doctors. Few like to visit AYUSH, as many costly brand medicine are provided free of cost. I overheard two persons talking each other about this.

nss_71st_ki_page 4nss_71st_ki_page threenss_71st_ki_page twonss_71st_page one

Reference: Key Indicators of Social Consumption in India,  Health, NSS 71″ Round, (January- June 2014), National Sample Survey Office, June2 015